What is SPICE (Software Engineering) in Hindi – सॉफ्टवेयर इंजीनियरिंग…

SPICE क्या है?

SPICE का इस्तेमाल Analog Electronic Circuit Simulator के रूप मे Widely उपयोग किया जाता है। यह एक Circuit Simulation Program है Electrical Elements जैसे Resistors, Capacitors, Diodes, Transistors और Voltage के Current Source को Text Netlist मे Convert करता है।

यह एक Program है जो कि PC मे Electronic Circuits को Simulate करता है। इसकी मदद से आप किसी भी Voltage या Current Waveform को Circuit मे देख सकते है।

इसकी मदद से आप Voltage और Current के सापेक्ष समय (Transient Analysis ) या Voltage और Current के सापेक्ष Frequency (AC Analysis) को Calculate कर सकते है। SPICE Programs को दूसरे Analysis जैसे DC, Sensitivity, Noise और Distortion के लिए भी use किया जाता है।

यह एक सामान्य Open Source Analog Electronic Circuit Simulator है। इसका प्रयोग Integrated Circuit और Board Level Design मे Circuit Design की Integrity और Circuit के Behavior को Predict करने के लिए किया जाता है।

 

SPICE का पूरा नाम क्या है?

इसका पूरा नाम Simulation Program with Integrated Circuit Emphasis है।

Also Read:- Career in Software Engineering in India – Scop, Job, Colleges and Salary in Hindi

 

History of SPICE in Hindi

इसको बनाने के पीछे उद्देश्य Integrated Circuits को Develop करना था जिसके कारण इसका नाम Simulation Program with Integrated Circuits Emphasis पड़ा। SPICE का निर्माण दूसरे Circuit Simulation Program से Develop किया गया जिसका नाम CANCER था।

इस Circuit Simulation Program को U. C. Berkeley के Professor Ronald Rohrer के द्वारा उनके Students के साथ मिलकर 1960 के दशक मे बने गया था।

CANCER Circuit Simulation Program मे Improvement होते रहे। बाद मे Professor Ronald Rohrer ने Berkeley को छोड़ दिया। बाद मे इस Circuit Simulation Program को दोबारा लिखा गया और इसे SPICE नाम दिया गया। इसके पहले Version को सन 1972 मे Public Domain मे Release किया गया।

सन 1975 मे SPICE का दूसरा version रिलीज हुआ इसका नाम 2g6 था जो कि एक महत्वपूर्ण version था। SPICE को Public Domain मे Professor Donald Pederson के द्वारा Release किया गया था क्योंकि उनका मानना था कि Technical Progress तब होती है जब इसको Freely Share किया जाए।

इसके बाद इसका नया Version सन 1985 मे आया इस Version को भी Public Domain मे ही Release किया गया था। SPICE के इस नए Version को C Programming Language मे लिखा गया था। इस version मे Numbers के अलावा Alphabetical Node Labels का भी use किया जा सकता था।

 

आपको SPICE का ही use क्यों करना चाहिए?

अगर आप Electronics के बारे मे पढ़ना चाहते है तो इसके लिए SPICE एक बहुत ही अच्छा Tool है। आप अगर Circuits के बारे मे अपनी Knowledge को बढ़ाना चाहते है आप उन पर काम करेंगे।

अगर आप Circuit के बारे मे विस्तार से जानना चाहते है तो आपको circuits को Build करके और circuits पर test करके इसके behavior को समझा जा सकता है।

लेकिन आपको एक Circuit को Wire करने के लिए आपको Breadboard, Components और Time की आवश्यकता होती है। Circuit के लिए कुछ Expensive equipment जैसे Power Supply, Signal Generator की आवश्यकता भी पड़ती है।

साथ ही इसमे physically कठिनाइयों का भी सामना करना पड़ता है। आप एक Circuit को Build करना चाहते है तो इसमे आपको बहुत सर Time Spend करना पड़ेगा और बदले मे आपको Simple Concept ही समझने को मिलेगा।

जबकि अगर आप SPICE का प्योंग करते है तो यह आपको कुछ ही minutes मे Insight Provide करता है। SPICE एक Virtual Board भी हो सकता है इसके लिए आपको इसे Physically बनाने की जरूरत नहीं है।

इतना ही नहीं अगर आपके पास काम टाइम है तो आप उतने से समय मे भी कई Circuit के Principles और Applications को भी Cover कर सकते है। इस तरह SPICE का use आपके लिए Useful हो सकता है।

 

SPICE Programing के Fundamentals

किसी भी Circuit Simulation मे SPICE के साथ Programing करना ठीक किसी Computer Language मे Programing करने जैसा है। सबसे पहले आपको Commands को Text File मे Type करना होता है|

उसके बाद उस File को Computer की Hard Drive मे Save करना होता है उसके बाद उस File के Content को उस Program के साथ Run करना पड़ता है जो उस Command को समझता हो जैसे Compiler या Interpreter.आपके द्वारा लिखी गई language को कंप्युटर Interpreted Programming Language मे Change करता है जिसके लिए वो Special Program का use करता है जिसे Interpreter कहते है।

Compile Computer Language मे जिस Program को आप लिखते हो वह Compiler की मदद से Computer मे अपनी भाषा मे बदल जाता है। अब यह Language कम्पाइल हो चुकी होती है|

अब यह आपके Computer पर Run करने लगती है अब यह Depend नहीं करता है आपके Computer मे Compiler है या नहीं क्योंकि यह Computer की भाषा मे पहले से ही Compile हो चुकी है।

SPICE भी इसी तरह की Interpreter Language है। आपके Computer को SPICE के Instructions को समझने के लिए आपके Computer मे SPICE Program का Install होना जरूरी है।

 

SPICE Program को अपने Computer मे कैसे Run करे?
  • इस प्रोग्राम मे Source File को Netlist भी कहते है।
  • सबसे पहले नए Netlist को Text Editing Program की मदद से Compose कीजिए।
  • अब इस Netlist File को Save कर लीजिए।
  • अब SPICE को उस Netlist पर Run कीजिए और Result को observe कीजिए।
  • अगर Result मे कोई Error आता है तो Text Editing Program को दोबारा Start कीजिए और Netlist को Modify कीजिए।
  • दोबारा SPICE को Run कीजिए और Result को observe कीजिए।
  • Output मे अगर दोबारा Error आता है Netlist को दोबारा text editing program के साथ Edit कीजिए। इस Cycle को तब तक करते रहिए जब तक आपको Desired Result नहीं मिल जाता है।
  • एक बार जब आप अपने Netlist को “Debugg” कर लेते है और आपको अच्छे Result मिलते है तो SPICE को फिर से Run कीजिए। अब इस बार इसे Computer की Screen पर देखने के बजाय Output को एक नई File के रूप मे Redirect कीजिए।
  • अब text editing program को start कीजिए और उस SPICE Output File को open कीजिए जिसको अभी आपने Create किया है। अब उस File को अपनी आवश्यकता के अनुसार Edit कीजिए और और उसे किसी Disk पर या Paper पर Print कर लीजिए।

Also Read:- software kya hai सॉफ्टवेर क्या है?

 

List of Free SPICE Software

 

Conclusion

आज के इस article के माध्यम से हमने आज के SPICE  के बारे मे विस्तार से जाना। आशा है कि यह article आपके लिए helpful रहा होगा। अगर आपको यह article पसंद आया हो तो इसे अपने दोस्तों के साथ जरूर share कीजिए।

आप हमे comment के माध्यम से सुझाव दे सकते है। आप हमे email के माध्यम से follow भी कर सकते है जिससे कि हमारी नई article की जानकारी आप तक सबसे पहले पहुचे आप email के माध्यम से हमसे question भी पूछ सकते है।

 

Leave a Comment