What is Network Hub in Hindi – नेटवर्क हब की पूरी जानकारी…

Hello दोस्तों क्या आप networking के बारे मे जानते है? अगर अप नहीं जानते है तो आपको हमारा यह article जरूर पढ़ना चाहिए क्योंकि आज के इस article मे हम जानेंगे कि networking hub क्या होता है। अगर आप networking के बारे मे जान लेंगे तो आपको यह network hub के बारे मे समझने मे आसानी होगी।

आजकल हम अपने किसी भी काम के लिए internet पर depend रहते है। बस इसके लिए हमे computer और data की जरूरत होती है जिसके माध्यम से हम internet को access कर पते है।

लेकिन(But) जब बात आती है multiple device को connect करने की तब हमें hub की आवश्यकता होती है। इस networking device की मदद से हम multiple devices को connect कर पाते है।

अगर आप hub के बारे मे जानना चाहते है या आपके मन मे hub से related कोई doubt है तो आज के इस article के माध्यम से हम hub के बारे मे विस्तार से जानेंगे।

 

What is Hub in Hindi

Hub एक network device है जो multiple device को आपस मे connect करने के लिए use किया जाता है और इन device के बीच data का transfer किया जाता है।

इसका इस्तेमाल LAN connectivity के लिए किया जाता है। hub को twisted pair cable के साथ काम करने के लिए design किया गया है। इनमे normally RJ45 jack का इस्तेमाल किया जाता है।

Network devices जैसे printers, scanners को भी hubs के साथ individual network cable के माध्यम से connect किया जाता है। hub, OSI model की पहली layer (physical layer) मे operate होता है।

आसान भाषा मे कहे तो hub एक प्रकार से distribution center के जैसा होता है जब कोई computer किसी information के लिए किसी network या computer से request करता है तो तब उसके द्वारा भेजी गई request किस hub के माध्यम से होकर जाती है।

अब hub उस request को पूरे network मे transmit करती है, अब उस network मे जो भी computer है यह request उन तक पहुच जाती है अब उन computers को यह check करना  है कि जो data उनको receive हुआ है वो उनके लिए है या नहीं।

अगर इस request के लिए उस computer के पास resources नहीं है तो यह request दूसरे computer को भेज दी जाती है इसी प्रकार यह process चलती है और इसी process मे request पूरी की जाती है।

लेकिन(But) आजकल hub का use थोड़ा काम होने लगा है, अब hub की जगह switches और routers ने ले ली है। क्योंकि ये devices हब के मुकाबले advance communication के साथ उपलब्ध है।

hub की मदद से signal को amplify और regenerate किया जाता है। hub मे बहुत सारे ports होते है इसलिए इसे multiple port repeater भी कहा जाता है। hub मे खुद की intelligence नहीं होती है जिस कारण data packets के लिए best path नहीं ढूंढ सकता है, और यह data को filter भी नहीं कर सकता है।

Also Read:- What is Bridge in Computer Networking in Hindi – नेटवर्क ब्रिज क्या होता है?..

 

Hub कैसे काम करता है?

जब किसी host computer के द्वारा कोई request भेजी जाती है तो सबसे पहले यह request हब के पास जाती है। अब hub इस request को उन सभी systems पर भेजेगा जो उससे connect होते है।

अब यह request उन सभी systems के पास पहुच जाती है जो उससे connect होते है अब जिस system के लिए वह package suitable होगा वो इस packet को accept कर लेगा बाकी system उस packet को छोड़ देते है। hub सभी system के साथ star topology diagram से जुड़ा रहता है।

hub का इस्तेमाल छोटे networks मे ज्यादा होता है जबकि बड़े बड़े networks के लिए switch का इस्तेमाल किया जाता है। हब OSI model की पहली layer (physical layer) मे काम करता है जबकि switches OSI model की दूसरी layer (data link layer) मे काम करते है।

अक्सर switches और hub का इस्तेमाल इनको combined करके switching hub के हिसाब से किया जाता है, जिससे की data packets को सही जगह तक पहुचने मे मदद मिलती है।

 

Types of hub in hindi

Hub को 3 types मे बाटा गया है। जिनके बारे मे हम विस्तार से जानेंगे।

  1. Active hub
  2. Passive hub
  3. Intelligence hub

 

1:- Active Hub:-

  • इन hubs को power supply की आवश्यकता नहीं होती है।
  • इनका इस्तेमाल nodes के बीच distance को ज्यादा से ज्यादा extend करने के लिए किया जाता है।
  • ये signal को regenerate और increase करने का काम भी करते है।
  • इन्हे multiport repeater के नाम से भी जाना जाता है।
  • active hub का इस्तेमाल connector के रूप मे किया जाता है। ये किसी भी network मे signal को खुद्द ही clean और boost भी कर सकते है।
  • ऐक्टिव हब data को monitor करने का काम भी करते है।

 

2:-Passive hub :-

  • ये active hub से प्राप्त signals को आगे forward कर देता है।
  • यह किसी भी signal को regenerate नहीं करते है।
  • यह किसी signal को amplify करने का कम भी नहीं करते है।
  • इसका इस्तेमाल nodes के बीच distance को extend करने के लिए भी नहीं क्या जा सकता है।
  • यह signals मे किसी भी type का कोई change नहीं करता है यह input से signal receive करता है और उन्हे forward कर देता है।
  • इसका इस्तेमाल repeater के रूप मे भी किया जाता है।

 

3:- Intelligence hub :-

  • Intelligence hub आसानी से उन सभी कामों को कर सकता है जिनको active hub और passive hub नहीं कर पाते है।
  • यह network resources को effectively मैनेज करता है।
  • इसकी मदद से network मे traffic को monitor किया जा सकता है।
  • इसके द्वारा network मे हो रही किसी भी problem को locate करके उसको identify किया जा सकता है।
  • इसमे और भी अलग features मौजूद है जैसे network management, switching, routing etc.

 

Network hub क्या है?

Network hub के माध्यम से multiple ethernet device को आपस मे connect किया जाता है। network hub के माध्यम से data को broadcast किया जाता है। network hub की speed भी अलग अलग होती है शुरुआत मे hubs की speed 10 mbps थी।

लेकिन(But) अब जो hubs available है उनकी speed 100 mbps तक है। इनकी speed अब 10 mbps से लेकर 100 mbps तक है। इनमे dual speed network hub का इस्तेमाल किया जाता है जिसके माध्यम से printers और computers को connection प्रदान करता है।

Also Read:- What is Ethernet in Hindi – ईथरनेट क्या है इसके प्रकार और…

 

Hub का use कहाँ कहाँ होता है?

  • Hubs को specially छोटे networks मे इस्तेमाल किया जाता है।
  • Hubs को network extension के लिए use किया जाता है।
  • Switch के जगह पर hub को इस्तेमाल करना आसान होता है, क्योंकि इसमे configure करने की जरूरत नहीं होती है।
  • यह बहूत बड़े traffic load को भी आसानी से संभाल लेता है।
  • Hub का इस्तेमाल organizations या computer lab मे connectivity के लिए होता है।
  • Hub को छोटे छोटे home network create करने के लिए भी use किया जाता है।

यह सब बातें तो network hub के बारे मे हो गई अब सवाल यह आता है कि आखिर network hub को अपने घर मे कैसे set करें।

 

अपने घर मे network hub को कैसे set करे?

अगर आप network hub को अपने घर मे set करना चाहते है तो इसके लिए आपको निम्नलिखित steps को follow करना पड़ेगा:-

 

  • सबसे पहले आपको ISP (internet service provider) से internet connection लेना होगा।
  • जब आपका internet connection install हो जाए तो इसके बाद आप network hub को connect कर सकते है।
  • Network hub से connect करने के लिए आपको modem की आवश्यकता होगी आप इसके साथ network cable भी use कर सकते है।

 

अब आपका network hub connect हो चुका है। आप चाहे तो आप अपने computer के NIC (network enterface card) के साथ एक और cable को connect कर सकते है जिससे आप अपने computer को doosre computer या printers के साथ जोड़ सकते है।

 

 

Advantages of network hub in hindi
  • ये network आसानी से पूरे distance मे extend हो जाता है।
  • इनकी cost बहुत ही काम होती है इसलिए इन्हे कोई भी आसानी से purchase कर सकता है।
  • यह विभिन्न type network media को support करता है।
  • Hub का use करने से network performance मे कोई भी फरक नहीं पड़ता है।

 

Disadvantages of network hub in hindi
  • Network hub traffic को reduce नहीं कर पता है।
  • Hub नेटवर्क को segments मे divide नहीं कर पता है।
  • ये full duplex mode मे operate नहीं होता है।
  • इसका इस्तेमाल information को filter करने के लिए नहीं किया जा सकता है।
  • इसमे data का repetition होता है जिससे कि data बार बार network मे repeatedly जाता रहता है।

 

Conclusion

आज के इस article मे हमने network hub के बारे मे जाना। आशा है कि यह article आपके लिए helpful रहा होगा। अगर यह article आपके लिए helpful रहा हो तो आप इसे अपने दोस्तों के साह जरूर share कीजिए।

आप हमसे facebook और अन्य social platform के माध्यम से भी जुड़ सकते है। हमे email के माध्यम से जरूर follow कीजिए जिससे की हमारी नई पोस्ट आने पर आपको update कर दिया जाएगा।

Leave a Comment