JAVA Programming Language in Hindi – जावा प्रोग्रामिंग भाषा क्या है?

Hello  दोस्तों आज के इस article मे हम Java programming language in Hindi के बारे मे जानेंगे। अगर इस language के बारे मे बात करे तो यह एक बहुत ही महत्वपूर्ण language है जिसका  use आजकल लगभग हर electronic device मे हो रहा है। आज के इस article मे हम इसी important language के बारे मे जानेंगे।

Java programming language क्या है?

यह एक object oriented high level programming language है जिसका इस्तेमाल software और application development करने के लिए किया जाता है।

Java programming language को एक system से दूसरे system मे बिना recompile किए run कराया जा सकता है, जो system java को support करते है।

आपने अक्सर देखा होगा जब आप अपने computer पर कोई web application, software या program को run करते है तो “ java not installed “ का option आता है

ऐसा इसलिए होता है क्योंकि कुछ application या software ऐसे होते है जो कि Java programming language मे बने हुए होते है और java को install किए बिना आप उस application या software को अपने system पर नहीं चला सकते है।

History of Java programming language in Hindi

Java programming language की एक बहुत ही interesting history है। यह interactive television के लिए originally design किया गया था लेकिन उस समय digital cable television के लिए यह technology बहुत advance थी।

Java programming language को बनाने वाली team को Green Team के नाम से जाना जाता है।

शुरुआत मे Java programming language को कुछ digital devices जैसे set top box, television के लिए बनाया गया था लेकिन advance technology होने के कारण या internet के लिए भी suitable थी। बाद मे इस technology को Netscape के द्वारा खरीद लिया गया।

Java programming language को बनाने के लिए simple, Robust, Portable, platform independent, Secured, High Performance, Architect Neutral, object oriented और dynamic जैसे principles का use किया गया है।

Java programming language को James Gosling  के द्वारा सन 1995 मे develop किया गया था इन्हे Father Of Java के नाम से भी जाना जाता है। इस project को इनकी team के द्वारा 90’s के दशक मे start किया गया था।

आजकल Java programming language का प्रयोग internet programming, electronic devices मे use किया जा रहा है। James Gosling, Mike Sheridan और Patrick Naughton के द्वारा Java programming language के project को June 1991 मे start किया गया था। इनकी team का नाम Green Team था।

प्रारंभ मे Java programming language का नाम Oak था जो की strength और बहुत सारी countries जैसे USA, France, Germany Romania की national tree के लिए भी choose किया गया है।

बाद मे सन 1995 मे इसका नाम Oak से बदलकर Java रख दिया गया। क्योंकि Oak पहले से ही Oak technologies नाम की कंपनी का trademark था।

Also Read:- What is C Programming Language in Hindi – सी प्रोग्रामिंग लैंग्वेज की पूरी…

java के versions

1:- JDK Alpha and Beta (1995)

2:- JDK 1.0 (23rd Jan 1996)

3:- JDK 1.1 (19th Feb 1997)

4:- J2SE 1.2 (8th Dec 1998)

5:- J2SE 1.3 (8th May 2000)

6:- J2SE 1.4 (6th Feb 2002)

7:- J2SE 5.0 (30th Sep 2004)

8:- Java SE 6 (11th Dec 2006)

9:- Java SE 7 (28th July 2011)

10:- Java SE 8 (18th Mar 2014)

11:- Java SE 9 (21st Sep 2017)

12:- Java SE 10 (20th Mar 2018)

इसे पढ़ें:- Introduction to Class and Objects in Hindi

Java programming language कैसे काम करती है?

जावा प्रोग्रामिंग लैंग्वेज की philosophy “write once, run everywhere” पर आधारित है। इसका मतलब है कि Java मे लिखे गए program को किसी भी machine पर run कराया जा सकता है जिसको यह support करता है।

Java programming language एक powerful और flexible programming language है जिसे किसी भी platform पर run कराया जा सकता है।

पहले जावा कोड Java Bytes के रूप मे compile होते है उसके बाद ये जावा बाइट JVM के according run करते है। JVM इस actual process को इसकी अपनी language मे processor मे process होने के लिए pass कर देता है। JVM, Java runtime environment (JRN) का part होता है।

JVM क्या है?

हर computer की अपनी अलग अलग machine language होती है। अगर आप Java programming language मे कोई program को compile करते है तो यह compiled program सभी computers पर run करने के unable होता है।

इस problem के solution के लिए Java Virtual Machine (JVM) का use किया जाता है। यह programming language मे हर computer के लिए implementation कर देता है।

Types of Java Application in Hindi

Java programming language का प्रयोग करके मुख्यतः 4 type की application बनाई जा सकती है:-

1:- Standalone Application:- Standalone Application को desktop application या window based application के नाम से भी जाना जाता है। यह एक प्रकार से हम काह सकते है कि traditional software है जिन्हे हम हर machine पर install करने की जरूरत होती है।

इसके उदाहरण Media Player, Antivirus जैसे software है। standalone application बनाने के लिए Java मे AWT और swing का use किया जाता है।

2:- Web Application:- web application वो होती है जो server side पर run करती है और dynamic page का निर्माण करती है जी कि web application कहलाती है। servlet, JSP, Struts, Spring etc इन  सब technologies का use web application बनाने के लिए किया जाता है।

3:- Enterprise Application:- Enterprise Application वो application है जिनका use banking जैसी जगहों पर किया जाता है। इसमे high-level security, load balancing जैसी सुविधा होती है। इस enterprise application को create करने के लिए EJB जैसी technology का उसे किया जाता है जावा मे।

4:- Mobile Application:- वह application जो कि mobile device के लिए create की जाती है moblile application कहलाती है। वर्तमान मे Android और जावा ME का उसे जावा मे इस type की application को develop करने के लिए किया जाता है।

Characteristic of Java programming language in Hindi

1:- Java programming language एक simple language है। यह language पिछली language जैसे C और C++ जैसी language से simple है। इन पिछली languages मे pointer की feature था जो कि Java programming language मे इस feature को सम्मिलित नहीं किया गया है।

2:- Java programming language मे कुछ अच्छे feature जैसे automatic memory allocation, garbage collection भी सम्मिलित है है जो इसे पिछली programming language से बेहतर बनाते है।

3:- Java programming language एक object-oriented programming language है। इसमे कोई भी high-level प्रोग्राम object पर depend रहता है।

4:- यह लैंग्वेज object-oriented होने के कारण हमे reusability, modularity और flexibility जैसे feature provide करता है।

5:- Java programming language मे बहुत अच्छे security features है जिस करण भी यह बहुत प्रचलित है। इसमे virus-free, Tamper free system software को develop कर सकते है।

6:- Java programming language को run करने के लिए हमे interpreter की आवश्यकता होती है। जब Java programs को जब compile किया जाता है तो यह byte codes को produce करते है, जिसे सिर्फ machine ही समझ सकती है।
अब compilation के बाद जो Java Codes बनते है वो machine-independent होते है, यह अब हर किसी system मे चलाया जा सकता है जिसमे Java Interpreter का use हो रहा हो। बहुत सारी compilers का काम high-level programming language को low-level programing language मे मे change करती है क्योंकि मशीन high-level language को समझ नहीं पाती है
यह compiler द्वारा execute किए गए language को ही समझ पाती है। एक बार जब source code को compile कर लिया जाता है तो यह executed byte code को किसी भी system पर run किया जा सकता है Java Interpreter का उपयोग करके।

7:- Java एक Interpreted language है जो कि Java को architect neutral programming language बनाती है। हम इसमे एक बार program लिख लेने के बाद इसको Java Virtual Machine की मदद से हम किसी भी platform पर run करा सकते है।

8:- Java programming language मे multi-threading का feature उपलब्ध है जिसकी मदद से operating system के procedure को call किए बिना काइ काम एक साथ कर सकते है।

9:- यह programming लैंग्वेज Robust है यानि कि जब इस program को run किया जाता है तो इसमे कोई भी error नहीं आता है।

10:- Java programming language एक portable programming language है।

11:- यह high-performance programming language है। इसमे bytecodes highly optimized होते है।

12:- Java को distributed environment के हिसाब से design किया गया है जिसकी मदद से इसे पूरे internet पर run कराया जा सकता है।

13:- यह dynamic programming language है।

Also Read:- What is C++ Programming Language in Hindi – सी++ प्रोग्रामिंग लैंग्वेज…

Java programming language को कैसे सीखें ?

जैसा की अब तक आप जन चुके है की Java programming language कितनी important programming language है। अब यह इतनी important programming language है तो इसको हम कैसे और कहाँ से सीखें? आप इसको

  • Online website
  • You tube
  • Offline tutorial

के माध्यम से सीख सकते है। you tube मे तो search करने पर आपको videos मिल जाएंगी। यहाँ पर हम आपको कुच्छ websites का नाम बता देंगे जिससे कि आपको search करने मे ज्यादा परेशानी नहीं होगी ।

  • W3schools
  • Udemy
  • Codecademy
  • Tutorialpoint

ये वो कुछ तरीकें है जिनके माध्यम से आप Java programming language को सीख सकते है।

Advantages of Java programming language in hndi

इसके लाभ निम्नलिखित हैं:-

  • यह simple programming language है।
  • यह object oriented programming language है।
  • इसमे बहुत सारे computers को एक network पर चलाया जा सकता है।
  • यह बहुत secure programming language है।
  • इसमे memory allocation और garbage collector के feature भी उपलब्ध है।

Disadvantages of Java programming language in hindi

  • यह memory consuming और दूसरी programming languages जैसे C और C++ के मुकाबले slower है।
  • Java का use करके लिखी गई GUI application दूसरी native application से different होती है।

Conclusion

आज के इस article के माध्यम से हमने C++ Programming language के बारे मे विस्तार से जाना। आशा है कि यह article आपके लिए helpful रहा होगा। अगर आपको यह article पसंद आया हो तो इसे अपने दोस्तों के साथ जरूर share कीजिए।

आप हमे comment के माध्यम से सुझाव दे सकते है। आप हमे email के माध्यम से follow भी कर सकते है जिससे कि हमारी नई article की जानकारी आप तक सबसे पहले पहुचे आप email के माध्यम से हमसे सावल भी पूछ सकते है।

1 thought on “JAVA Programming Language in Hindi – जावा प्रोग्रामिंग भाषा क्या है?”

Leave a Comment