What is Memory Allocation in Hindi – Static and Dynamic Memory Allocation

Hello दोस्तों ehindilearning.com मे आपका स्वागत है आज के इस Article मे हम What is Memory Allocation in Hindi के बारे मे जानने वाले है।

 

What is Memory Allocation in Hindi

Memory Allocation वह process है जिसके माध्यम से computer मे programs और services को physical या virtual memory को assign किया जाता है। Memory Allocation के माध्यम से computer memory मे किसी भी program के execution के लिए कुछ या पूरा भाग को reserve किया जाता है।

मेमोरी अलोकेशन को memory management की process के माध्यम से पूरा किया जाता है। memory allocation की process को operating system और software application के माध्यम से manage किया जाता है।

इसके माध्यम से किसी भी program के execution के लिए जितनी भी memory की आवश्यकता होती है उस program को उतनी physical या virtual memory प्रदान की जाती है।

 

Types of Memory Allocation in Hindi (मेमोरी अलोकेशन के प्रकार)

यह दो प्रकार की होती है:-

1:- Static Memory Allocation

2:- Dynamic Memory Allocation

Also Read:- What is C Programming Language in Hindi – सी प्रोग्रामिंग लैंग्वेज की पूरी…

 

Static Memory Allocation

इस प्रकार के memory allocation तब perform करता है जब compiler किसी program को compile करके object files को generate करता है और linker उन सभी files को merge करके single executable file को create करता है इसके बाद loader के द्वारा इस फाइल को main memory मे execution के लिए load कर दिया जाता है।

स्टैटिक अलोकेशन मे किसी भी process को पूरा होने के लिए आवश्यक data के size की जानकारी execution से पहले ज्ञात कर ली जाती है। अगर execution से पहले process को पूरा होने के लिए लिए जाने वाले data का size पता नहीं है तो इस size को guess कर लिया जाता है।

इस method मे execution के दौरान किसी भी प्रकार के memory allocation operation की जरूरत नहीं होती है क्योंकि यह सब operation उस process को पूरा होने से पहले ही पूरे कर लिए जाते है जिस कारण यहाँ पर execution जल्दी हो जाता है।

Also Read:- What is virtual memory in hindi

 

Dynamic Memory Allocation

यह allocation तब perform करता है जब किसी process का execution हो रहा होता है। यहाँ पर जब कोई program रन हो रहा होता है और उस program की entity को पहली बार इस्तेमाल किया जाता है तो उस program की entities को memory का allocation किया जाता है।

इसमे memory wastage को reduce करने के लिए data के actual size का पता होना जरूरी है। Dynamic memory allocation किसी भी program के execution के लिए flexibility प्रदान करता है। यह किसी भी program के execution के लिए आवश्यक memory space की आवश्यकता को भो decide करता है।

 

Contiguous and non-contiguous memory allocation in Hindi

Contiguous Memory Allocation

इस प्रकार के memory allocation मे पूरा memory space एक जगह पर एक साथ available होता है जिसका मतलब है कि इसमे memory partition अलग अलग मौजूद नहीं होते है बल्कि एक साथ available रहते है। इसमे जब भी किसी प्रोसेस execution के लिए memory की request करती है तो उस process के execution के लिए उसकी जरूरत के हिसाब से उस process को memory block प्रदान कर दिया जाता है।

Contiguous memory allocation के लिए operating system और user process दोनों का main memory मे होना आवश्यक है। यहाँ पर main memory दो भागों मे बँटी होती है जिसमे एक भाग operating system के लिए होता है और दूसरा भाग user program के लिए होता है।

 

NonContiguous Memory Allocation

इस प्रकार के memory allocation मे जो खाली memory space होता है वह एक जगह पर available णा होकर अलग अलग divide होकर रहता है इस लिए यह Time consuming भी होता है। इस प्रकार के memory allocation मे जब भी किसी process के द्वारा memory के लिए request की जाती है तो इसको अलग अलग जगह पर memory का allocation किया जाता है क्योंकि यहाँ पर memory अलग अलग बिखरी हुई होती है।

Non contiguous memory allocation मे memory wastage काम होता है।

 

Conclusion

आज के इस article के माध्यम से हमने आज के Memory Allocation kya hai? के बारे मे विस्तार से जाना। आशा है कि यह article आपके लिए helpful रहा होगा। अगर आपको यह article पसंद आया हो तो इसे अपने दोस्तों के साथ जरूर share कीजिए।

आप हमे comment के माध्यम से सुझाव दे सकते है। आप हमे email के माध्यम से follow भी कर सकते है जिससे कि हमारी नई article की जानकारी आप तक सबसे पहले पहुचे आप email के माध्यम से हमसे question भी पूछ सकते है।

 

1 thought on “What is Memory Allocation in Hindi – Static and Dynamic Memory Allocation”

Leave a Comment