What is Digital and Analog signal in Hindi – डिजिटल और ऐनलॉग सिग्नल…

Hello दोस्तों आज के इस article मे हम digital signal और analog signal के बारे मे जानेंगे कि आखिर इनका हमारे जीवन मे कितना महत्वपूर्ण योगदान है।

साथ ही हम digital signal और analog signal के बीच कुछ major differences भी जानेंगे। यह सब जानने से पहले हम यह जानेंगे कि आखिर signal क्या होता आई?

 

Signal क्या है?

 

Signal किसी physical magnitude य electrical current मे variation होता है जिसके माध्यम से हम information को share कर पाते है। जैसे एक telephony मे बहुत से signal होते है जिनकी continuous या intermitted tone होती है, लेकिन उसकी एक विशेष frequency होती है जो कि यह निर्धारित करती है कि user की call कहा की गई है।

 

Digital और analog transmission के माध्यम से हम voice, data, image और videos का transmission कर सकते है इस प्रकार के data का transmission करने के लिए हम continuous signal का use करते है जिसकी amplitude, phase और कुछ properties मे variation होता रहता है।

यह transmission या तो pulses के sequence मे होता है जिसे हम line code (baseband method) कहते है।  या कुछ limited लगातार variation करने वाली waves (passband method) के form मे होता है जिसके लिए digital modulation method का use किया जाता है।

Also Read:- What is Amplifier in Hindi – एम्पलीफायर (प्रवर्धक) क्या होता है पूरी जानकारी

 

Digital signal क्या है?

 

Digital signal का use data को carry करने के लिए किया जाता है। digital data signal discrete या continuous नहीं होते है। digital signal डाटा को binary form मे carry करता है ऐसा इसलिए क्योंकि इसको bits के रूप मे signify किया जाता है। हर digital signal की एक निश्चित frequency, amplitude और phase होता है।

 

इस को bit interval या bit rate के नाम से भी जाना जाता है क्योंकि इसमे data का transmission time बिट के रूप मे होता है। digital signal की मे दो logic होते है एक होता है high logic और एक low logic होता है। low logic को 0 से जबकि high logic को 1 से represent किया जाता है। digital signal को दो तरीकों से transmit किया जा सकता है:-

 

 

1:- baseband transmission:- इस प्रकार के transmission मे digital signal को किसी भ channel मे भेजने के लिए उसे analog signal मे नहीं बदला जाता है। इस transmission के लिए low pass channel की जरूरत होती है, एक ऐसा channel जिसकी bandwidth 0 से start होती हो।

 

2:- broadband transmission:- पस प्रकार केtransmission मे किसी भी digital signal को किसी भी channel मे भेजने से पहले उसको analog signal मे बदलना जरूरी है। किसी भी signal को analog signal मे बदलने के लिए modulation की जरूरत होती है।

 

Broadband transmission को bandpass channel के लिए भी use किया जा सकता है। bandpass channel वो होते है जिनकी bandwidth ज़ीरो से start नहीं होती है।

lowpass channels की तुलना मे bandpass channels ज्यादा available रहते है, अगर available channel bandpass है तो उस स्तिथि मे हम direct digital signal नहीं भेज सकते है इसके लिए पहले हमे उस signal कप analog signal मे बदलना पड़ेगा।

 

Digital signal के advantages:-

 

1:- इन्हे आसानी से design किया जा सकता है।

 

2:- इनमे accuracy अधिक होती है।

 

3:- digital signal मे noise काम होता है।

 

4:- इसमे information store करना आसान होता है।

 

Analog signal क्या है?

 

Analog signals लगातार time के साथ change होने वाले signals है। analog signals को composite और simple signals मे classified किया जा सकता है। analog signals के simple type को sine wave के तौर पर consider किया जा सकता है जबकि composite type को बहुत प्रकार को sine waves मे बाटा जा सकता है।

एक analog signal को उसके amplitude, phase, frequency और time period ,से define किया जा सकता है क्योंकि analog signal इन सब मे ही variation से ही बनता है।

Also Read:- What is CPU Scheduling Algorithm in Hindi – सी. पी. यू. शेडयूलिङ्ग एल्गोरिद्म…

 

Analog signal का सबसे अच्छा example human voice है, जब हम बोलते है हम उन analog signals का transmission करने के लिए air का use करते है। किसी audio tape से electric signal का transmission भी analog signal का example है।

 

1:- Analog signal मे numbers की infinite value होती है जो कि time के साथ बदलती रहती है।

 

2:- analog signal को usually एक wave के रूप मे प्रदर्शित किया जाता है।

 

Characteristics of analog signals in hindi:-

 

1:- amplitude:- किसी भी signal की height को उसका amplitude कहते है। यह wave horizontal axis पर दिए गए किसी बिन्दु से verticle axis के बराबर होती है।

amplitude को volts, amperes या watt मे measure किया जाता है यह signal पर depend करता है कि वह किस प्रकार का है। volts को voltage, amperes को current और watt को power का measurement करने के लिए use किया जाता है।

 

2:- period:- एक signal की एक cycle कितने time मे पूरी होती है उसको period के द्वारा measure किया जाता है।

 

:- इसको seconds मे measure किया जाता है।

:- इसको milliseconds, microseconds, nanoseconds या picoseconds मे भी measure किया जाता है।

 

3:- frequency:- किसी निश्चित time मे पूरे किए गए wave pattern की संख्या को frequency के द्वारा दर्शाया जाता है। दूसरे शब्दों मे कहे तो frequency, per second मे पूरी की गई cycles की संख्या को दर्शाता है। frequency को hertz मे measure किया जाता है।

Frequency और period एक दूसरे के inverse होते है।

 

4:- phase किसी wave की zero के सापेक्ष position को बताता है। phase या describe करता है की आखिर wave, time axis मे कितना forward या backward move करती है। phase को radian या degree मे measure किया जाता जाता है।

 

Analog signal के advantages:-

 

1:- यह audio और video के प्रसारण के बहुत अच्छा माध्यम है।

 

2:- यह किसी भी information को transmit करने के लिए कम bandwidth और digital signal को consume करता है।

 

3:– analog signals पूरी दुनिया मे आसानी से उपलब्ध है।

 

Characteristic of analog signal and digital signal in hindi:-

 

1:- analog signals, amplitude की एक continuous variety का use करते है लेकिन (But) digital signals मे distinct values का limited set होता है।

 

2:- किसी range मे use करने के लिए analog signal काम adjustable होते है लेकिन(But) किसी विशेष range मे use के लिए digital signal ज्यादा adjustable होते है।

 

3:- analog signal, continuous nature के होते है लेकिन(But) digital signal, discrete होते है।

 

4:- analog signals को wired या wireless type मे transmit किया जा सकता है लेकिन(But) digital signal wired होते है।

 

5:- analog signals की value positive या negative भी हो सकती है लेकिन(But) digital signal हमेशा positive होते है।

 

6:- analog signal की security encrypt नहीं होती है लेकिन(But) digital signal की security encrypted होती है।

 

7:-  analog signal मे data storage, wave signal form मे होती है लेकिन(But) digital signal मे data storage, binary bit के form मे होती है।

 

8:- analog signal ज्यादा power consumption करते है लेकिन(But) digital signal काम power consumption करते है।

 

9:- analog signals मे data transmission rate slow होता है लेकिन(But) digital signal मे data transmission rate fast होता है।

 

 

Key differences between digital signal and analog signal in hindi:-

 

1:- analog signals, continuous signal होते है जो की time के साथ बदलते रहते है

लेकिन(But) digital signal, discrete signals होते है जी कि binary data को carry करते है।

 

2:- analog signals, continuous sine waves होती है लेकिन(But) digital signals, square waves होती है।

 

3:- analog signals की range set नहीं होती है

लेकिन(But) digital signal की range की limit 0 से 1 तक होती है।

 

4:- analog signal किसी भी information को signal form मे broadcast करते है

लेकिन(But) digital signal किसी भी information को bits के रूप मे broadcast करते है।

 

Conclusion

आज के इस article मे हमने digital signal और analog signal के बारे मे जाना।

अगर आप इससे related या अन्य कोई जानकारी पाना चाहते है तो comment के माध्यम से पूछ सकते है।

 

आशा है कि यह article आपके लिए helpful रहा होगा।

1 thought on “What is Digital and Analog signal in Hindi – डिजिटल और ऐनलॉग सिग्नल…”

Leave a Comment