Bhartiya Thal Sena Information in Hindi – भारतीय थल सेना | GK

Hello दोस्तों आज के इस आर्टिकल मे हम Bhartiya Thal Sena Information in Hindi के बारे मे डिस्कस करेंगे। जैसा की आप सब लोग जानते है कि आजकल भारतीय थल सेना सभी competitive exams मे पूछा जा सकता है। इसलिये हमारे लिए Bhartiya Thal Sena Information in Hindi – भारतीय थल सेना | GK को पढ़ना बहुत जरूरी है।

साथ ही इस आर्टिकल मे हम भारतीय सेना के सभी कमान, भारतीय सेना द्वारा किए गए सभी ऑपरेशन, परमवीर चक्र प्राप्त करने वाले सभी वीर, भारतीय थल सेना मे रैंक की जानकारी, भारतीय थल सेना की रेजीमेंट की जानकारी और अब तक के सभी भारतीय थल सेना अध्यक्ष के बारे मे जानेंगे।

भारतीय सेना से संबंधित UPSC, SSC, State Services, NDA, CDS, Railways, Bank और Entrance Exam की तैयारी कर रहे छात्र-छात्राओं के काफी उपयोगी है।

 

भारतीय थल सेना

भारतीय थलसेना, सेना की भूमि-आधारित दल की शाखा है और यह भारतीय सशस्त्र बल का सबसे बड़ा अंग है। भारत का राष्ट्रपति, थलसेना का प्रधान सेनापति होता है, और इसकी कमान भारतीय थलसेनाध्यक्ष के हाथों में होती है जो कि चार-सितारा जनरल स्तर के अधिकारी होते हैं। वर्तमान 2020 मे भारत के थल सेना अध्यक्ष का नाम मनोज मुकुंद नरवाने है। पांच-सितारा रैंक के साथ फील्ड मार्शल की रैंक भारतीय सेना में श्रेष्ठतम सम्मान की औपचारिक स्थिति है। आजतक मात्र दो अधिकारियों को इससे सम्मानित किया गया है। भारतीय थल सेना दिवस 15 जनवरी को मनाया जाता है।

भारतीय सेना का प्राथमिक उद्देश्य राष्ट्रीय सुरक्षा और राष्ट्रवाद की एकता सुनिश्चित करना, राष्ट्र को बाहरी आक्रमण और आंतरिक खतरों से बचाव, और अपनी सीमाओं पर शांति और सुरक्षा को बनाए रखना हैं। यह प्राकृतिक आपदाओं और अन्य गड़बड़ी के दौरान मानवीय बचाव अभियान भी चलाते है। आंतरिक खतरों से निपटने के लिए सरकार द्वारा भी सहायता हेतु अनुरोध किया जा सकता है। यह भारतीय नौसेना और भारतीय वायुसेना के साथ राष्ट्रीय शक्ति का एक प्रमुख अंग है।

सेना अब तक पड़ोसी देश पाकिस्तान के साथ चार युद्ध और चीन के साथ एक युद्ध लड़ चुकी है। सेना द्वारा किए गए अन्य प्रमुख अभियानों में ऑपरेशन विजयऑपरेशन मेघदूत और ऑपरेशन कैक्टस शामिल हैं। संघर्षों के अलावा, सेना ने शांति के समय कई बड़े अभियानों, जैसे ऑपरेशन ब्रासस्टैक्स और युद्ध-अभ्यास शूरवीर का संचालन किया है।

साथ ही भारतीय थल सेना कई देशो में संयुक्त राष्ट्र के शांति मिशनों में एक सक्रिय प्रतिभागी भी रहा है जिनमे साइप्रस, लेबनान, कांगो, अंगोला, कंबोडिया, वियतनाम, नामीबिया, एल साल्वाडोर, लाइबेरिया, मोज़ाम्बिक और सोमालिया जैसे देश शामिल है। हाल ही मे आई रिपोर्ट के अनुसार सैन्य खर्च के मामले मे भारत अमेरिका और चीन के बाद तीसरे नंबर पर स्थित है भारत का सैन्य खर्च 71.1 अरब डॉलर है।

भारतीय सेना में एक सैन्य-दल (रेजिमेंट) प्रणाली है, लेकिन यह बुनियादी क्षेत्र गठन विभाजन के साथ संचालन और भौगोलिक रूप से सात कमान में विभाजित है। यह एक सर्व-स्वयंसेवी बल है और इसमें देश के सक्रिय रक्षा कर्मियों का 80% से अधिक हिस्सा है। भारत के पास सैनिकों की संख्या 13.50 लाख से ज्यादा है। ये वो सैनिक हैं जो अपनी ड्यूटी पर सक्रिय हैं। इसके अलावा भारतीय सेना में करीब 21 लाख सैनिक रिजर्व में रखे गए हैं।इस हिसाब से देखा जाए तो भारतीय सेना के पास कुल 34.50 से ज्यादा जवान हैं।

इसके साथ भारतीय सेना दुनिया की दूसरी सबसे बड़ी स्थायी सेना है। सेना ने सैनिको के आधुनिकीकरण कार्यक्रम की शुरुआत की है, जिसे “फ्यूचरिस्टिक इन्फैंट्री सैनिक एक प्रणाली के रूप में” के नाम से जाना जाता है इसके साथ ही यह अपने बख़्तरबंद, तोपखाने और उड्डयन शाखाओं के लिए नए संसाधनों का संग्रह एवं सुधार भी कर रहा है।

कॉम्बैट टैंकों की बात करें, तो भारतीय थलसेना के पास इनकी संख्या 4,184 है। इनमें सभी तरह के टैंक शामिल हैं। हमारी सेना के पास तोपों की संख्या  4,260 है। भारत की थलसेना के पास 266 रॉकेट लॉन्चर्स हैं। इसके अलावा आधुनिक हथियारों से लैस गाड़ियों की संख्या 2,815 है।

Indian Army

भारतीय थल सेना द्वारा किए गए विभिन्न ऑपरेशन की जानकारी

ऑपरेशन पोलो

ऑपरेशन पोलो हैदराबाद की पुलिस का Code है। इस ऑपरेशन को सितम्बर 1948 में चलाया गया था, ये एक सैन्य अभियान था, जिसमें भारतीय सशस्त्र बलों ने निज़ाम-शासित रियासत पर हमला किया और इसे भारतीय संघ में शामिल करने का ज़िम्मा उठाया था।

भारत के सुप्रीम कोर्ट और सुप्रीम कोर्ट के न्यायाधीश के बारे मे पूरी जानकारी

 

ऑपरेशन विजय

आज़ादी के बाद ब्रिटिश और फ्रांस के सभी अधिकार ख़त्म हो गए थे लेकिन इसके बावजूद भारतीय उपमहाद्वीप गोवा, दमन और दीव में पुर्तगालियों का शासन था। पुर्तगाली बार-बार बातचीत की मांग को ठुकरा रहे थे, जिसके बाद भारत सरकार ने ऑपरेशन विजय के तहत 18 दिसंबर 1961 में सेना की छोटी टुकड़ी भेज कर उनके खिलाफ़ कार्यवाही की।

 

ऑपरेशन मेघदूत

सियाचिन संघर्ष को सियाचिन युद्ध के रूप में भी पहचाना जाता है। कश्मीर में विवादित सियाचिन ग्लेशियर क्षेत्र पर भारत और पाकिस्तान अपना-अपना अधिकार बताते रहे हैं, सैन्य दृष्टि से सियाचिन एक महत्वपूर्ण स्थान है, जहां से पाकिस्तान को खदेड़ने के लिए भारतीय सेना ने 1984 में ऑपरेशन मेघदूत चलाया था. भारतीय सेना की कोशिशों और सरकार की कुटनीति की वजह से आज सियाचिन पर भारतीय तिरंगा लहराता है।

मेघना हेली ब्रिज

ये ऑपरेशन 1971 में भारतीय सेना और बंगलादेश की मुक्ति वाहिनी सेना ने मिल कर चलाया गया था, इस ऑपरेशन का मकसद मेघना नदी का पुल पार कर उसे पाकिस्तानी एयर फोर्स से सुरक्षित रखना था।

 

ऑपरेशन ब्लू स्टार

पंजाब से खालिस्तान के खात्मे के लिए भारतीय सेना ने 1984 में आपरेशन ब्लू स्टार चलाया गया, इसके तहत भारतीय सेना ने 3 जून 1984 को अमृतसर के स्वर्ण मंदिर में छिपे खालिस्तान समर्थक जनरैल सिंह भिंडरावाला और उनके समर्थकों पर हमला किया. इस ऑपरेशन को सफ़ल बनाने में पंजाब पुलिस का बहुत बड़ा योगदान था।

 

ऑपरेशन विराट

श्रीलंका में लिबरेशन टाइगर्स ऑफ़ तमिल ईलम (LTTE) और सेना के बीच गृहयुद्ध को समाप्त कर शांति बहाल करने के लिए भारत ने 1987 में एक संधिपत्र हस्ताक्षर किए, इसके तहत भारतीय सेना ने भारतीय शांति रक्षा सेना (IPKF) का गठन किया, जिसने 1987 से ले कर 1990 तक श्रीलंका में Peace Keeping Operation (विराट) चलाया।

 

ऑपरेशन कैक्टस

नवंबर 1988 में तमिल इलम के ‘पीपुल्स लिबरेशन ऑर्गेनाइजेशन’ के उग्रवादियों ने मालदीव पर हमला किया. भारतीय खुफिया एजेंसी रॉ (Raw) की सूचना के आधार पर भारतीय सेना ने एक ऑपरेशन चलाया, जिसका नाम Operation Cactus दिया गया। इस ऑपरेशन को पूरा करने में भारतीय वायुसेना का बहुत बड़ा योगदान था।

 

ऑपरेशन विजय

1999 में भारत-पाकिस्तान कारगिल युद्ध के दौरान ऑपरेशन विजय चलाया गया था, इसका उद्देश्य भारतीय सीमा पर कब्ज़ा जमाये पाकिस्तान की सेना और कश्मीरी उग्रवादियों को बाहर खदेड़ना था।

ऑपरेशन राहत

2013 में भारतीय सेना द्वारा चालाया गया ऑपरेशन राहत अब तक लोगों को बचाने वाला सबसे बड़ा मिशन था। 17 जून 2013 को 20 हजार लोगों को बाढ़ से सुरक्षित निकाला गया था, जो अपने आप में एक बहुत बड़ा रिकॉर्ड है।

ऑपरेशन ऑल आउट

आंतकियों का सफ़ाया करने के उद्देश्य से ये ऑपरेशन असम में 2014 में चलाया गया था, इस ऑपरेशन में सेना, अर्धसैनिक बल, राज्य पुलिस व वायु सेना ने साथ मिल कर इस ऑपरेशन को अंजाम दिया था।

ऑपरेशन ब्लू स्टार

पंजाब से खालिस्तान के खात्मे के लिए भारतीय सेना ने 1984 में आपरेशन ब्लू स्टार चलाया गया, इसके तहत भारतीय सेना ने 3 जून 1984 को अमृतसर के स्वर्ण मंदिर में छिपे खालिस्तान समर्थक जनरैल सिंह भिंडरावाला और उनके समर्थकों पर हमला किया. इस ऑपरेशन को सफ़ल बनाने में पंजाब पुलिस का बहुत बड़ा योगदान था।

 

सर्जिकल स्ट्राइक

भारत भी 2015 के जून महीने में म्यांमार सीमा में दाखिल होकर सक्रिय उग्रवादी गुट एनएससीएन (के) के शिविरों को निशाना बनाया था। 29 सितंबर 2016 में भारतीय सेना ने पाक में घुसकर सर्जिकल स्ट्राइक को अंजाम दिया था और 26 फरवरी 2019 को भारतीय वायुसेना ने पाकिस्तान में Air Strike किया।

 

 

भारतीय सेना मे परमवीर चक्र प्राप्त करने वाले वीरों की सूची

 

परमवीर चक्र भारत मे दिया जाने वाला सर्वोच्च वीरता पुरस्कार है जिसको भारतीय सेना के निम्नलिखित वीरों को अब तक दिया जा चुका है:-

 

अनुक्रमनामरेजीमेंटतिथिस्थानटिप्पणी
1मेजर सोमनाथ शर्माचौथी बटालियन, कुमाऊँ रेजीमेंट3 नवंबर, 1947बड़गाम, कश्मीरमरणोपरांत
2लांस नायक करम सिंहपहली बटालियन, सिख रेजीमेंट13 अक्तूबर, 1948टिथवाल, कश्मीर
3सेकेंड लेफ़्टीनेंट राम राघोबा राणेइंडियन कार्प्स ऑफ इंजिनयर्स8 अप्रैल, 1948नौशेरा, कश्मीर
4नायक यदुनाथ सिंहपहली बटालियन, राजपूत रेजीमेंटफरवरी 1948नौशेरा, कश्मीरमरणोपरांत
5कंपनी हवलदार मेजर पीरू सिंहछ्ठी बटालियन, राजपूताना राइफल्स17-18 जुलाई, 1948टिथवाल, कश्मीरमरणोपरांत
6कैप्टन गुरबचन सिंह सलारियातीसरी बटालियन, १ गोरखा राइफल्स5 दिसंबर, 1961एलिजाबेथ विले, काटंगा, कांगोमरणोपरांत
7मेजर धनसिंह थापापहली बटालियन, गोरखा राइफल्स20 अक्तूबर, 1962लद्दाख,
8सूबेदार जोगिंदर सिंहपहली बटालियन, सिख रेजीमेंट23 अक्तूबर, 1962तोंगपेन ला, नार्थ इस्ट फ्रंटियर एजेंसी, भारतमरणोपरांत
9मेजर शैतान सिंहतेरहवीं बटालियन, कुमाऊँ रेजीमेंट18 नवंबर, 1962रेज़ांग लामरणोपरांत
10कंपनी क्वार्टर मास्टर हवलदार अब्दुल हमीदचौथी बटालियन, बाम्बे ग्रेनेडियर्स10 सितंबर, 1965चीमा, खेमकरण सेक्टरमरणोपरांत
11लेफ्टीनेंट कर्नल आर्देशिर तारापोरद पूना हार्स15 अक्तूबर, 1965फिलौरा, सियालकोट सेक्टर, पाकिस्तानमरणोपरांत
12लांस नायक अलबर्ट एक्काचौदहवीं बटालियन, बिहार रेजीमेंट3 दिसंबर, 1971गंगासागरमरणोपरांत
13फ्लाईंग आफिसर निर्मलजीत सिंह सेखोंअठारहवीं स्क्वैड्रन, भारतीय वायुसेना14 दिसंबर, 1971श्रीनगर, कश्मीरमरणोपरांत
14लेफ्टीनेंट अरुण क्षेत्रपालपूना हार्स16 दिसंबर, 1971जरपाल, शकरगढ़ सेक्टरमरणोपरांत
15मेजर होशियार सिंहतीसरी बटालियन, बाम्बे ग्रेनेडियर्स17 दिसंबर, 1971बसंतार नदी, शकरगढ़ सेक्टर
16नायब सूबेदार बन्ना सिंहआठवीं बटालियन, जम्मू कश्मीर लाइट इनफेन्ट्री23 जून, 1987सियाचिन ग्लेशियर, जम्मू कश्मीरजीवित
17मेजर रामास्वामी परमेश्वरनआठवीं बटालियन, महार रेजीमेंट25 नवंबर, 1987श्रीलंकामरणोपरांत
18लेफ्टीनेंट मनोज कुमार पांडेप्रथम बटालियन, ग्यारहवीं गोरखा राइफल्स3 जुलाई, 1999ज़ुबेर टाप, बटालिक सेक्टर, कारगिल क्षेत्र, जम्मू कश्मीरमरणोपरांत
19ग्रेनेडियर योगेन्द्र सिंह यादवअठारहवीं बटालियन, द ग्रेनेडियर्स4 जुलाई, 1999टाइगर हिल्स, कारगिल क्षेत्रजीवित
20राइफलमैन संजय कुमारतेरहवीं बटालियन, जम्मू कश्मीर राइफल्स5 जुलाई, 1999फ्लैट टाप क्षेत्र, कारगिलजीवित
21कैप्टन विक्रम बत्रातेरहवीं बटालियन, जम्मू कश्मीर राइफल्स6 जुलाई, 1999बिंदु 5140, बिंदु 4875, कारगिल क्षेत्रमरणोपरांत

List of Indian Prime Ministers in Hindi – भारत के प्रधानमंत्री की पूरी जानकारी

 

भारतीय सेना के रेजिमेंट की सूची

 

रेजिमेंटरेजिमेंट केंद्रवर्ष
सिख लाइट इन्फेंट्रीफतेहगढ़, उत्तर प्रदेश1857
सिख रेजिमेंटरामगढ़ छावनीझारखंड1846
सिक्किम स्काउट्स2013
लद्दाख स्काउट्सलेहजम्मू और कश्मीर1963
राष्ट्रीय राइफल्स1990
राजपूताना राइफल्सदिल्ली छावनीनई दिल्ली1775
राजपूत रेजिमेंटफतेहगढ़उत्तर प्रदेश1778
मैकेनाइज़्ड इन्फेंट्री रेजिमेंटअहमदनगरमहाराष्ट्र1979
महार रेजिमेंटसागर, मध्य प्रदेश1941
मराठा लाइट इन्फेंट्रीबेलगाम, कर्नाटक1768
मद्रास रेजिमेंटवेलिंगटनउधगमंडलम1758
बिहार रेजिमेंटदानापुर छावनी, पटना, बिहार1941
पैराशूट रेजिमेंटबैंगलोरकर्नाटक1945
पंजाब रेजिमेंटरामगढ़ छावनीझारखंड1761
नागा रेजिमेंटरानीखेतउत्तराखंड1970
द ग्रेनेडियरजबलपुरमध्य प्रदेश1778
डोगरा रेजिमेंटफैजाबादउत्तर प्रदेश1877
जाट रेजिमेंटबरेलीउत्तर प्रदेश1795
जम्मू कश्मीर लाइट इन्फेंट्रीअवंतीपुरजम्मू और कश्मीर1947
जम्मू कश्मीर राइफल्सजबलपुरमध्य प्रदेश1821
गार्ड ब्रिगेडकम्पटीमहाराष्ट्र1949
गढ़वाल राइफल्सलांसडाउनउत्तराखंड1887
कुमाऊं रेजिमेंटरानीखेतउत्तराखंड1813
असम रेजिमेंटशिलांगमेघालय1941
अरुणाचल स्काउट्सशिलांगमेघालय2010
11 गोरखा राइफल्सलखनऊ, उत्तर प्रदेश1918
9 गोरखा राइफल्सवाराणसीउत्तर प्रदेश1817
8 गोरखा राइफल्सशिलांगमेघालय1824
5 गोरखा राइफल्स (फ्रंटियर फोर्स)शिलांगमेघालय1858
4 गोरखा राइफल्ससबाथुहिमाचल प्रदेश1857
3 गोरखा राइफल्सवाराणसीउत्तर प्रदेश1815
1 गोरखा राइफल्स (मालाओं रेजिमेंट)सबाथुहिमाचल प्रदेश1815

 

 

 

भारतीय सेना मे सभी पदों की सूची

 

  • फ़ील्ड मार्शल
  • जनरल(यह थलसेना अध्यक्ष का पद है)
  • लेफ्टिनेंट – जनरल
  • मेजर – जनरल
  • ब्रिगेडियर
  • कर्नल
  • लेफ्टिनेंट – कर्नल
  • मेजर
  • कप्तान (कैप्टन)
  • लेफ्टिनेंट
  • सेकंड लेफ्टिनेंट2
  • सूबेदार मेजर
  • सूबेदार
  • सूबेदार मेजर
  • सूबेदार
  • नायब सूबेदार
  • रेजीमेंट हवलदार मेजर2
  • रेजीमेंट क्वार्टरमास्टर हवलदार मेजर2
  • कंपनी हवलदार मेजर
  • कंपनी क्वार्टरमास्टर हवलदार मेजर
  • हवलदार
  • नायक
  • लांसनायक
  • सिपाही

भारत के सभी राज्य और केंद्र शासित प्रदेशों की सूची, राजधानी, जनसंख्या, स्थापना…

 

भारतीय थल सेना की संरचना

भारतीय थल सेना को 7 कमानों मे बाटा गया है।

 

1:- केन्द्रीय कमान

2:- पूर्वी कमान

3:- उत्तरी कमान

4:- दक्षिणी कमान

5:- दक्षिण पश्चिमी कमान

6:- पश्चिमी कमान

7:- सेना प्रशिक्षण कमान

 

 

भारतीय थल सेना के अब तक सभी अध्यक्षों की सूची ( List of all Army chief of India)

 

        भारतीय थलसेनाध्यक्षों की सूची     भारतीय थल सेना अध्यक्ष का कार्यकाल

 

जनरल महाराज राजेंद्र सिंहजी01 अप्रैल 1955 – 14 मई 1955
जनरल एस.एम. श्रीनागेश15 मई 1955 – 7 मई 1957
जनरल के.एस. थिमैया08 मई 1957 – 7 मई 1961
जनरल आर.एन. थापर08 मई 1961 – 19 नवंबर 1962
जनरल जे.एन. चौधरी20 नवंबर 1962 – 7 जून 1966
जनरल पी.पी. कुमारमंगलम08 जून 1966 – 7 जून 1969
जनरल एस.एच.एफ.जे. मानेकशा08 जून 1969 – 31 दिसंबर 1972
फील्ड मार्शल एस.एच.एफ.जे. मानेकशा01 जनवरी 1973 – 14 जनवरी 1973
जनरल जी.जी. बेवूर15 जनवरी 1973 – 31 मई 1975
जनरल टी.एन. रैना01 जून 1975 – 31 मई 1978
जनरल ओ.पी. मलहोत्रा01 जून 1978 – 31 मई 1981
जनरल के.वी. कृष्णाराव01 जून 1981 – 31 जुलाई 1983
जनरल ए.एस. वैद्य01 अगस्त 1983 – 31 जनवरी 1986
जनरल के. सुंदरजी01 फरवरी 1986 – 30 अप्रैल 1988
जनरल वी.एन. शर्मा01 मई 1988 – 30 जून 1990
जनरल एस.एफ. रोड्रिग्स01 जुलाई 1990 – 30 जून 1993
जनरल बी.सी. जोशी01 जुलाई 1993 – 18 नवंबर 1994
जनरल एस. राय चौधरी22 नवंबर 1994 – 30 सितंबर 1997
जनरल वी.पी. मलिक01 अक्टूबर 1997 – 30 सितंबर 2000
जनरल एस. पद्मनाभन30 सितंबर 2000 – 31 दिसंबर 2002
जनरल जे.जे. सिंह01 फरवरी 2005 – 30 सितंबर 2007
जनरल दीपक कपूर30 सितंबर 2007-30 मार्च 2010
जनरल वीके सिंह31 मार्च 2010 – 31 मई 2012
जनरल बिक्रम सिंह01 जून 2012 से 31 जुलाई 2014
जनरल दलबीर सिंह सुहाग31 जुलाई 2014 – 31 दिसंबर 2016
जनरल बिपिन रावत31 दिसंबर 2016 – 31 दिसंबर 2019
जनरल मनोज मुकुंद नरवाने31 दिसंबर 2019 – अब तक

 

विभिन्न परीक्षाओं मे पूछे गए भारतीय सेना से संबंधित प्रश्न उत्तर

 

1:- जल, थल और वायु सेना का मुख्यालय कहाँ पर स्थित है?

नई दिल्ली

 

2:- स्वतंत्र भारत के प्रथम रक्षा मंत्री कौन थे?

बलदेव सिंह

 

3:- भारतीय नौसेना का पहला नाम क्या था?

रॉयल इंडिया मरीन

 

4:- आर्म्ड फोर्सेज मेडिकल कॉलेज कहाँ पर स्थापित है?

पुणे मे

 

5:- भारतीय वायु सेना मे मार्शल की पदवी प्राप्त करने वाले पहले व्यक्ति कौन थे?

अर्जन सिंह

 

6:- राष्ट्रीय कैडेट कोर (NCC) की स्थापना कब हुई थी?

1948 मे

 

7:- भारतीय थल सेना दिवस कब मनाया जाता है?

15 जनवरी

 

8:- विश्व भ्रमण करने वाला भारतीय नौसेना का पहला पोत कौन सा था?

INS तरंगिणी

 

9:- परमवीर चक्र प्राप्त करने वाले प्रथम व्यक्ति कौन थे?

मेजर सोमनाथ शर्मा

 

10:- भारत का पहला पनडुब्बी संग्रहालय कहाँ पर स्थापित किया गया है?

विशाखापत्तनम (आंध्र प्रदेश)

 

11:- भारत के पहले चीफ ऑफ डिफेन्स स्टाफ (CDS) कौन है?

जनरल विपिन रावत

 

आज के इस article के माध्यम से हमने आज के भारतीय थल सेना और भारतीय थल सेना अध्यक्ष 2020 के बारे मे विस्तार से जाना। आशा है कि Bhartiya Thal Sena Information in Hindi – भारतीय थल सेना | GK का यह article आपके लिए helpful रहा होगा। अगर आपको यह article पसंद आया हो तो इसे अपने दोस्तों के साथ जरूर share कीजिए।

आप हमे comment के माध्यम से सुझाव दे सकते है। आप हमे email के माध्यम से follow भी कर सकते है जिससे कि हमारी नई article की जानकारी आप तक सबसे पहले पहुचे आप email के माध्यम से हमसे question भी पूछ सकते है।

 

1 thought on “Bhartiya Thal Sena Information in Hindi – भारतीय थल सेना | GK”

Leave a Comment