What is Amplifier in Hindi – एम्पलीफायर (प्रवर्धक) क्या होता है पूरी जानकारी

आज के इस Article मे हम What is Amplifier in Hindi (एम्पलिफ़ायर क्या है और इसके प्रकार ) के बारे मे जानेंगे। जैसा कि हम सब जानते है कि आजकल Technology का जमाना है हमारे सामने मे हमेशा कोई न कोई नए Tool आते रहते है जिनकी मदद से हमारे बहुत सारे काम आसान हो जाते है।

लेकिन जो ये Tool हमारे लिए बनाए जाते है जिससे कि हमे किसी भी काम मे किसी भी प्रकार की कठिनाइयों का सामना न करना पड़े लेकिन अगर हमे इन Tools के बारे मे जानकारी नहीं होती है तो उस स्थिति मे हमारे लिए इस Tool को Use करने मे और भी ज्यादा कठिनाइयों का सामना करना पड़ सकता है।

इसलिए हम आपको अपने Articles के माध्यम से इस प्रकार के Tools के बारे मे जानकारी उपलब्ध करवाते है जिससे कि आपको किसी भी विषय मे पूरी जानकारी प्राप्त हो। आज के Article एम हम एक ऐसे ही Tool के बारे मे जानने वाले है जिसका नाम Amplifier है।

आपने Amplifier का नाम बहुत बार सुन होगा लेकिन हो सकता है लेकिन आप इसके बारे मे अच्छी तरह से नहीं जानते हो, अगर आप Amplifier के बारे मे जानना चाहते है तो आपको आज के इस Article मे Amplifier मे बारे मे विस्तार से जानकारी प्रदान की जाएगी। जानते है कि Amplifier क्या होता है?

 

What is Amplifier in Hindi (एम्पलीफायर क्या होता है?)

Amplifier एक Electronic Device है जो कि Signal की क्षमता (Strength) को बढ़ा देता है। यह Two Port इलेक्ट्रॉनिक सर्किट (Electronic Circuit) होता है जो Power Supply से Electronic Power का इस्तेमाल करके Signal के Amplitude को बढ़ाता है।

यह Power Supply से Electronic Power को लेकर उस Power को Signal के Input terminal पर Use करता है जिससे Input की तुलना मे ज्यादा Amplitude का Signal हमे Output मे प्राप्त होता है।

एक Amplifier के द्वारा जो Amplification(प्रवर्धन) की मात्रा को हम Gain मे मापते है। Gain इनपुट को दिए जाने वाले Output, Voltage और Current या Power का अनुपात होता है। Amplifier एक ऐसा Circuit होता है जिसका Power Gain एक से अधिक होता है।

अगर एक Amplifier की बात करे तो यह या तो किसी Equipment का Separate Piece हो सकता है या पहले से ही किसी अन्य Equipment के अंदर fit हो सकता है। अगर आप देखे तो आज के समय मे लगभग सभी तरह के Electronic Equipment मे Amplifier का इस्तेमाल होता है।

Also Read:- What is .NET Framework Architecture in Hindi – .NET Framework kya hai?

Amplifier का इतिहास

सबसे पहली Device जिसका इस्तेमाल Amplify करने के लिए किया गया था उसका नाम Triode Vacuum Tube था जिसका निर्माण 1906 मे Lee De Forest ने किया था इसी Vacuum Tube के कारण सन 1912 मे पहले Amplifier को Develop किया गया।

1970 के दशक तक सभी Amplifier मे Vacuum Tube का ही इस्तेमाल किया जाता था क्योंकि उस समय तक Transistor का निर्माण नहीं हुआ था लेकिन जब Transistor का निर्माण कर लिया गया तब से Transistor ने Vacuum Tube की जगह ले ली। आजकल लगभग सभी Amplifier मे Transistor का इस्तेमाल होता है लेकिन आज भी कुछ ऐसे Amplifier है जिनमे Vacuum Tube का इस्तेमाल किया जाता है।

 

Principle of Amplifier in Hindi (एम्पलीफायर का सिद्धांत)

यह एक Two Port electrical network होता है जो कि Input Port पर Apply किए गए signal की replica को Output Port पर Produce करता है लेकिन इसके द्वारा Output Port पर Produce किए गए Signal का Magnitude इनपुट पोर्ट से ज्यादा होता है।

Input Port किसी भी प्रकार का हो सकता है यह Voltage Input हो सकता है जो Current नहीं लेता है या यह सिर्फ Current को Input के तौर पर लेता है और Voltage को नहीं लेता है।

Output Port या तो Dependent Voltage Source हो सकता है जिसमे Source Resistance शून्य होता है और इसका Output Voltage इसके Input पर निर्भर करता है या यह Dependent Current Source होता है जिसमे Infinite Source Resistance होता है और इसमे Output Current इसके Input पर Dependent होता है।

 

Types of Amplifiers in Hindi (एम्पलीफायर के प्रकार)

Amplifiers मुख्यतः 4 प्रकार के होते है:-

Current Amplifiers:- जैसा कि नाम से ही समझ मे आता है ये Amplifier इनपुट मे प्राप्त Current के Amplitude को Increase कर देते है।

Voltage Amplifiers:- यह Amplifiers के ऐसे प्रकार है जिनका इस्तेमाल Electronic Devices मे सबसे ज्यादा होता है। ये एम्पलीफायर किसी भी Signal के Output Voltage के Amplitude की Increase कर देते है।

Transconductance Amplifier:- ये Amplifiers का ऐसा प्रकार होता है जिसमे Input Voltage के अनुसार output current मे परिवर्तन होता है।

Transresistance Amplifier:- यह Amplifier का ऐसा प्रकार है जो Input Current के अनुसार Output Voltage मे परिवर्तन करता है। इसे हम CurrentToVoltage Convertor के नाम से भी जानते है।   

Power Amplifiers:- Power Amplifiers का मुख्य उद्देश्य Power को increase करना होता है। इस प्रकार के Amplifiers मे Output मे Voltage और Current का Production इनपुट मे Voltage और Current के Production से ज्यादा होता है।

Operational Amplifiers (opamps):- यह भी Amplifier का बहुत मुख्य प्रकार है यह एक Integrated Circuit होता है जो एक Voltage Amplifier की तरह काम करता है और इसमे Differential Input होता है।

Valve या Vacuum Tube Amplifiers:- ऐसे Amplifier जो Voltage Output या Power को Increase करने के लिए Vacuum Tube का इस्तेमाल करते है Vacuum Tube Amplifier कहलाते है।

Distributed Amplifiers:- वे Amplifier जो Transmission Lines का इस्तेमाल करके Input को Temporarily Split करता है और प्रत्येक Segment को Amplify करता है Distributed Amplifier कहलाता है।

Instrument Amplifier:- इन Amplifier को Specially साउन्ड, आवाज या म्यूजिक को Amplify करने के लिए किया जाता है इसलिए इसका इस्तेमाल मुख्यतः Musical Instruments (उपकरणों) मे होता है।

Transistor Amplifierयह सबसे जाना माना amplifier का प्रकार है। एक ट्रैन्ज़िस्टर एम्पलीफायर Multiconfiguration High Output Amplifier होते है जिसमे Working Base के तौर पर Transistor का इस्तेमाल होता है। Bipolar Junction Transistor (BJTs) और Metal Oxide Semiconductor FieldEffect Transistors (MOSFETs) इसके अंतर्गत आते है।

Klystron:- यह Linear Beam Vacuum Tube का एक प्रकार है जिसका इस्तेमाल High Radio Frequencies के लिए किया जाता है। Amplifier का यह प्रकार Microwave Amplifier के अंतर्गत आता है।

Also Read:- Transister क्या है?

 

ये Amplifiers के प्रकार थे जिनके बारे मे हमने जाना इसके अलावा भी बहुत सारे ऐसे Application मौजूद है लेकिन मुख्य सभी प्रकारों को हम जान चुके है।

 

Types of Power Amplifiers

  • Class A Power Amplifiers
  • Class B Power Amplifiers
  • Class AB Power Amplifiers
  • Class C Power Amplifiers

 

 Conclusion:-

आज के इस article के माध्यम से हमने आज के What is amplifier in Hindi के बारे मे विस्तार से जाना। आशा है कि यह article आपके लिए helpful रहा होगा। अगर आपको यह article पसंद आया हो तो इसे अपने दोस्तों के साथ जरूर share कीजिए।

आप हमे comment के माध्यम से सुझाव दे सकते है। आप हमे email के माध्यम से follow भी कर सकते है जिससे कि हमारी नई article की जानकारी आप तक सबसे पहले पहुचे आप email के माध्यम से हमसे question भी पूछ सकते है।              

1 thought on “What is Amplifier in Hindi – एम्पलीफायर (प्रवर्धक) क्या होता है पूरी जानकारी”

Leave a Comment